New PM KUSUM yojana 2021 || पीएम कुसुम योजना 2021 sarkari yojana.

Pm kusum yojana scheme || पीएम कुसुम योजना 2021 — Introduction

The Pradhan Mantri Kisan Energy Suraksha and Utthan Maha Abhiyan or PM KUSUM yojana, the solar pump scheme of the central government, is a solution that can simultaneously meet all the electricity related needs of farmers. In this scheme farmers will be provided with the all equipments needed for the solar water pump form pump to stand all the things related to it. In this scheme farmers have to give only 10% of the total expenses. Means they will get 90% of subsidy on this scheme.

Why PM KUSUM yojana (Aim)?

  1. pollution control – In order to control the pollution the government of india has started this intiative as india is the third carbon producer in the world amongst america and china. India and France together have formed an organization called International Solar Alliance (ISA), which has a greater focus on renewable energy. India has set a target of 175 Megawatt of power by the year 2022, In which 100 Megawatt will be of solar power.
  2. Less use of diesel – In our country where is no power there diesel powered pump are used as diesel is a non renewable resuource and on burning gives carbon so there will be a benefit to the enviornment.
  3. The goal of increasing the income of farmers : Solar power can be attained 300 days in a year, but irrigation is done at a fixed time. For this, farmers have the facility to earn money by selling electricity. When there will be extra production of the power, farmer can supply this electrcity to the electricity board and can user that power in future electricity bills . Its full details are given below.

Four components provided to the farmer-

  1. Solar panel
  2. Water pump
  3. Charge controller
  4. Panel stand

Customer care number and email address-

Official website

For official website click here

For more sarkari yojana click here

For online jobs click here

PM KUSUM yojana 2021 हिंदी में

केंद्र सरकार की सोलर पंप योजना, प्रधानमंत्री किसान ऊर्जा सुरक्षा और उत्थान महा अभियान (कुसुम) योजना एक ऐसा समाधान है जो किसानों की बिजली संबंधी सभी जरूरतों को पूरा कर सकता है। इस योजना में किसानों को सोलर वॉटर पंप फॉर्म पंप के लिए आवश्यक सभी उपकरणों के साथ प्रदान किया जाएगा जो इससे संबंधित सभी चीजों को खड़ा करेंगे। इस योजना में किसानों को कुल खर्च का केवल 10% देना है। मतलब इस योजना पर उन्हें 90% अनुदान मिलेगा

PM KUSUM yojana (उद्देश्य)

  1. प्रदूषण नियंत्रण – प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए भारत सरकार ने यह प्रयास शुरू किया है क्योंकि अमेरिका और चीन के बीच भारत दुनिया में तीसरा कार्बन उत्पादक है। भारत और फ्रांस ने मिलकर अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन (आईएसए) नामक एक संगठन बनाया है, जिसका नवीकरणीय ऊर्जा पर अधिक ध्यान है। भारत ने वर्ष 2022 तक 175 मेगावाट बिजली का लक्ष्य रखा है, जिसमें 100 मेगावाट बिजली सौर ऊर्जा का होगा।
  2. डीजल का कम उपयोग – हमारे देश में जहां कोई शक्ति नहीं है वहां डीजल चालित पंप का उपयोग किया जाता है क्योंकि डीजल एक गैर-नवीकरणीय जलसेक है और जलाने पर कार्बन देता है इसलिए पर्यावरण को लाभ होगा।
  3. किसानों की आय बढ़ाने का लक्ष्य: सौर ऊर्जा एक वर्ष में 300 दिन प्राप्त की जा सकती है, लेकिन सिंचाई एक निश्चित समय पर की जाती है। इसके लिए किसानों के पास बिजली बेचकर पैसा कमाने की सुविधा है। जब बिजली का अतिरिक्त उत्पादन होगा, तो किसान बिजली बोर्ड को इस बिजली की आपूर्ति कर सकता है और उस बिजली को भविष्य के बिजली के बिल में डाल सकता है। इसकी पूरी जानकारी नीचे दी गई है।

किसान को प्रदान की जाने वाली चार चीजें

  1. सौर पेनल
  2. पानी का पंप
  3. प्रभारी नियंत्रक
  4. पैनल स्टैंड

ग्राहक देखभाल नंबर और ईमेल पता

आधिकारिक वेबसाइट

आधिकारिक वेबसाइट के लिए यहां क्लिक करें

For more sarkari yojana click here

For online jobs click here

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top